Amaltas ka ped बहुउपयोगी है?

Amaltas ka ped एक बहु उपयोगी पेड़ है जिसका उपयोग करके आप कई बीमारियों से छुटकारा पा सकते हैं। अमलतास के पेड़ का प्रत्येक भाग औषधि के रूप में काम में लाया जाता है। Amaltas ka ped किसी जादू से कम नहीं है। यह जानते हैं Amaltas ka ped कैसा होता है।

परिचय (Introduction)

Amaltas ka ped आयुर्वेद में बहुत ही विशेष माना गया है। इसका प्रत्येक भाग आयुर्वेद में औषधी के रूप में उपयोग किया जाता है। अमलतास के पेड़ का फल, फूल, जड़, तने, छाल सभी का उपयोग औषधि के रूप में किया जाता है। यह कई बीमारियों से निजात दिलाता है। Amaltas ka ped लगभग 15 मीटर ऊंचा होता है इस पेड़ के फूल बहुत ही सुंदर होते हैं जो मार्च से जुलाई के बीच में आते हैं। इसके फल लंबे डंडे के समान देखते हैं। यह हरे रंग के होते हैं और पाक जाने के बाद इसका रंग बदलकर गहरा भूरा हो जाता हैं।

Amaltas ka ped कई पौष्टिक तत्वों से भरपूर है इसमें बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शारीरिक बीमारियों से निजात दिलाने में मदद करते हैं। Amaltas ka ped पीले फूलों वाला एक सुंदर पेड़ है जिस का इंग्लिश में नाम गोल्डन शावर (golden shower), purging cassia, Indian laburnum, pudding-pipe tree है।

Amaltas ka ped और उसके औषधीय गुण (Medicinal properties)

  • बुखार की पीड़ा से निजात दिलाएं – अमलतास की जड़ से बुखार के लिए दवाइयां बनाई जाती है शरीर के दर्द को दूर करने में भी मदद करती है इसके लिए आपको उसकी जड़ को अच्छे से पीस लेना है और फिर बुखार होने पर दिन में कम से कम 2 बार एक सीमित मात्रा में इसका सेवन करना है इससे आपको जल्द ही राहत मिलेगी।
  • कब्ज में फायदेमंद – यह पेट संबंधी सभी बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। अमलतास के फूल का उपयोग कब्ज को दूर करने में किया जाता है। इसके फूल को उसको पूरी रात पानी में भिगो दें। इसको अच्छे से मिलाकर इसमें नाम मात्र की चीनी मिलाकर इसका पेस्ट बना लें फिर का सेवन करें इससे आपको काफी राहत मिलेगी।
  • इम्यूनिटी को बढ़ाएं – Amaltas ka ped की छाल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करती है इसकी छाल में बहुत सारे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करते हैं। नियमित रूप से इसका सेवन करने से आप मौसमी बीमारियों के संक्रमण से बच सकते हैं।
  • दाद खाज खुजली से छुटकारा दिलाए – अमलतास की फलियों का उपयोग करने से दाद खाज खुजली से छुटकारा पा सकते हैं अमलतास की फलियों को पीसकर उसका पेस्ट बना लें इसका लेप दाद खाज खुजली वाले स्थान पर करें इससे आपको बहुत जल्द राहत मिलेगी।
  • घमौरियों से राहत दिलाये – गर्मी के मौसम में घमौरियों से सभी परेशान होते हैं फोड़े फुंसी की वजह से शरीर और चेहरा भी खराब देखने लगता है इन से छुटकारा पाने के लिए आपको अमलतास की छाल को पीसकर उसका लेप घमौरियों में लगाने से सारी घमोरियां जल्दी ठीक हो जाएंगे।
  • चेहरे को निखारे – अमलतास के फूल चेहरे की चमक बढ़ाने के लिए एक बहुत अच्छा स्त्रोत है इसके लिए अमलतास के फूल को पीसकर इसका लेप बनाकर चेहरे में लगाने से आपका चेहरा निखर जाता है यह लेप एक फेशियल क्रीम की तरह काम करता है चेहरे के दाग धब्बों को और मुंहासों को जड़ से खत्म कर देता है।
  • डायबिटीज से राहत दिलाए – डायबिटीज को नियंत्रण रखने के लिए अमलतास की छाल का अर्क बहुत फायदेमंद होता है इसका अर्क का नियमित रूप से सेवन करने से डायबिटीज रोगियों को काफी फायदा होता है यह रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करता है और डायबिटीज को बैलेंस करने में मदद करता है।
  • गठिया से राहत दिलाये – आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में अक्सर जोड़ों में दर्द, कमर में दर्द, गठिया में दर्द, सूजन आदि की समस्या बढ़ जाती है ऐसे में अमलतास की पत्तियों पर घी लगाकर उसको गर्म करके लगाने से काफी राहत मिलती है।
  • प्रेगनेंसी की संभावना को कम करें – प्राचीन काल में इसका उपयोग प्रेगनेंसी की संभावना को कम करने के लिए किया जाता था इसके लिए अमलतास फूलों का बीज निकालकर उसको पिछले फिर इसका सेवन लगातार पांच दिनों तक करें।

उपयोग (Uses)

Amaltas ka ped बहुत ही उपयोगी है इसका उपयोग बीमारियों से राहत दिलाने के लिए किया जाता और चेहरे को भी निखारता है आइए जानते हैं इसका उपयोग और क्या है – 

  • अमलतास के पेड़ की जड़ को पीसकर इसका लेप बनाकर लगाने से कुष्ठ रोग ठीक होता है।
  • अमलतास का उपयोग करके हेमोटाइसिस से छुटकारा पा सकते हैं।
  • अमलतास के पत्तों का पेस्ट बनाकर उसको फटी एड़ियों में लगाने से एड़ियां अच्छी हो जाती है।
  • अमलतास के पत्तों को दूध में पीसकर उसका लेप स्ट्रेच मार्क मैं लगाने से स्ट्रेच मार्क्स ठीक होते हैं।
  • अमलतास का पेड़ रोग के उपचार में काम आता है।

Amaltas ka ped कैसे इस्तेमाल किया जाता है? (How is the amaltas tree used?)

  • अमलतास के पेड़ के पत्ते 
  • अमलतास के पेड़ के फूल 
  • अमलतास के पेड़ का बीज 
  • अमलतास के पेड़ की छाल
  • अमलतास के पेड़ की जड
  • अमलतास के पेड़ के फल का गूदा।

अमलतास का उपयोग कितनी मात्रा में करना चाहिए? ( In what quantity should amaltas be used?)

  • अमलतास के काढ़े का उपयोग – इसके काढ़े का उपयोग केवल 15 से 20 ग्राम ही करना चाहिये।
  • अमलतास के फलमज्जा (विरेचनार्थ) – इसका उपयोग केवल 15 से 20 ग्राम ही करना चाहिए।

नुकसान (Side effects)

Amaltas ka ped जितना फायदेमंद है इसके उतने ही नुकसान भी है। किस स्थिति में इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए आइए जानते हैं।

  • गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए इससे गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।
  • अमलतास का उपयोग अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे आपको उल्टी और चक्कर आने की संभावना बढ़ जाती है।
  • आप किसी बीमारी के लिए दवाइयों का इस्तेमाल कर रहे हैं तो अमलतास का उपयोग ना करें।

निष्कर्ष(Conclusion)

Amaltas ka ped लाभकारी तो है इसके बहुत से फायदे हैं। इसके प्रत्येक भाग का उपयोग दवाई के रूप में किया जाता है परंतु इसके नुकसान भी हैं, तो इसका उपयोग करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें बिना चिकित्सक के परामर्श के अमलतास का उपयोग ना करें आशा करते हैं आपको हमारी यह पोस्ट Amaltas ka ped पसंद आई होगी।

Read more – क्या अशोक का पेड़ शुभ है?

Leave a Comment