Dalchini ka ped या फिर दालचीनी क्या हैं?

आज हम आपको दालचीनी के बारे में बताएंगे। Dalchini ka ped कितना लाभकारी हैं और क्या क्या औषधीय गुण हैं? आइये जानते हैं।

Dalchini ka ped और उसका परिचय

Dalchini ka ped 12 महीने फलता फूलता हैं,इस पर मौसम के बदलाव का कुछ खास असर दिखाई नहीं पड़ता हैं। दालचीनी बहुत ही सुगंधित होती हैं, और यह खाने को बहुत ही स्वादिष्ट बना देती हैं, खुशबूदार बना देती हैं। Dalchini ka ped  लगभग 12 से 15 मीटर तक ऊंचा होता हैं, दालचीनी भूरे रंग की होती हैं और यह बहुत ही मुलायम होती हैं चिकनी होती हैं।

Dalchini ka ped सबसे ज्यादा भारत में और श्रीलंका में पाया जाता हैं Dalchini ka ped या फिर दालचीनी का उपयोग मसाले की तरह किया जाता हैं। इसी कारण इसका उपयोग मसाले के रूप में किया जाता है दालचीनी का पेड़ औषधीय रूप से भी गुणकारी हैं। इसके फूल छोटे होते हैं और इसके फूलों का रंग सफेद होता हैं और हल्का हरा भी होता हैं दालचीनी की पत्तियों से तीखी सी गंध आती हैं। दालचीनी बहुत सी बीमारी को ठीक करने में मददगार हैं।

दालचीनी के पत्तों का रंग गुलाबी होता हैं और यह चमकीले से दिखाई देते हैं दालचीनी की खेती जुलाई के महीने से शुरू की जाती है और यह दिसंबर में तैयार हो जाती हैं।

Dalchini ka ped या फिर दालचीनी का दूसरा नाम सिन्नामोमुम वेरुम (cinnamomum verum) हैं।

Dalchini ka ped या फिर दालचीनी की विशेषताएं

  •  दालचीनी के पेड़ की छाल को गरम मसाले की श्रेणी में रखा जाता हैं।
  • दालचीनी के पेड़ की पत्तियों से बने तेल से मच्छरों को भगाया जा सकता हैं।
  •  दालचीनी खाने को बहुत ही सुगंधित बना देती हैं और स्वादिष्ट भी।
  • दालचीनी के गुणों का उल्लेख संस्कृत के प्राचीन ग्रंथों में भी किया गया हैं और इसका बाइबिल में भी विशेष प्रकार से उल्लेख किया गया हैं।

दालचीनी का उपयोग 

  • दालचीनी का उपयोग मसाले के रूप में किया जाता हैं।
  •  चॉकलेट बनाने में भी दालचीनी का प्रयोग किया जाता हैं।
  •  दालचीनी का उपयोग नमकीन बनाने में भी किया जाता हैं।
  •  फ़ारसी लोगों के भोजन में व्यंजनों में विशेष मसाला दालचीनी ही होता हैं।
  •  बहुत से डेसर्ट बनाने में भी दालचीनी का उपयोग किया जाता हैं, जैसे कि डोनट्स, सेब पाई, दालचीनी बन्स आदि।
  • इतना ही नहीं बल्कि दालचीनी और चीनी के मिश्रण को भी बेचा जाता हैं क्योंकि इसका प्रयोग कुछ खास प्रकार के व्यंजन बनाने में भी किया जाता हैं।
  •  दालचीनी का उपयोग एक प्रकार  कीट से बचाने वाली एक क्रीम में भी किया जाता हैं।

फायदे 

  • दालचीनी की पत्तियों से जो तेल बनता हैं उसका उपयोग करके मच्छरों के लार्वा को मारा जा सकता हैं।
  •  दालचीनी हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ रखती हैं।
  •  दालचीनी के सेवन से सिरदर्द जैसी बीमारी भी ठीक हो जाती हैं।
  •  मासिक धर्म से जुड़ी कोई भी परेशानी हो तो दालचीनी के सेवन से वह ठीक हो सकती हैं।
  •  अगर किसी को टीवी की बीमारी हैं तो उसके लिए दालचीनी का सेवन बहुत ही लाभकारी होता हैं।
  •  चर्म रोग, दस्त जैसी बीमारियों को भी दालचीनी के सेवन से दूर किया जा सकता हैं।
  •  किसी भी प्रकार की खांसी को दालचीनी के उपयोग से ठीक किया जा सकता हैं।
  •  अगर किसी के दांत में दर्द है तो वह भी दालचीनी के प्रयोग से ठीक हो सकता हैं।
  •  दालचीनी भूख बढ़ाने में मददगार होती हैं।
  •  दालचीनी सबसे ज्यादा फायदेमंद सर्दियों में होती है यह शरीर में गर्मी प्रदान करती हैं। दालचीनी वाली चाय पीने से यह हमें सर्दी से बचाती हैं, और कई रोगों से दूध भी रखती है और चाय का स्वाद भी बढ़ जाता हैं।
  • दालचीनी का काढ़ा बनाकर पीने से यह हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाता हैं और कोरोना वायरस जैसे वायरस से बचाव करने में मदद करता हैं।

नुकसान 

  • जो महिलाएं गर्भवती हैं उनको दालचीनी का सेवन वर्जित हैं। यह गर्भ को नष्ट कर देती हैं।
  •  दालचीनी का अत्यधिक सेवन करने से सिर में दर्द अर्थात माइग्रेन की समस्या हो सकती हैं।

दालचीनी का पेड़ इसमें जितने भी भाग हैं वह सब उपयोगी माने जाते हैं।

  1.  दालचीनी के पेड़ के पत्ते ।
  1. दालचीनी के पेड़ की छाल।
  1.  दालचीनी के पेड़ की जड़ और 
  1. दालचीनी के पेड़ की पत्तियों से बने तेल।

दालचीनी का पेड़ या फिर इसके भागों का उपयोग कुछ इस प्रकार किया जाता हैं।

  •  दालचीनी के पेड़ की छाल उपयोग इसकी छाल का चूर्ण बनाया जाता हैं, उसके बाद इसका उपयोग किया जाता हैं। लगभग 2 से 3 ग्राम ही एक बार में सेवन करना चाहिए।
  •  Dalchini ka ped के पत्तों का भी चूर्ण बनाकर उसका उपयोग किया जाता है और इसे भी लगभग 2 से 3 ग्राम ही एक बार में उपयोग में लाना चाहिए ।
  • इसके पेड़ के पत्तों से तेल भी निर्मित किया जाता हैं, जिसका लगभग 4 से 5 बून्द ही इस्तेमाल किया जाता हैं।

Read more – जानिए नीम के औषधीय गुण

दालचीनी के औषधीय गुण 

जिस तरह दालचीनी का पेड़ उपयोगी है उसी प्रकार इसमें बहुत से और गुण भी पाए जाते हैं दालचीनी का पेड़ और औषधीय रूप से भी बहुत ही लाभकारी और गुणकारी माना जाता है आइए जानते हैं –

इसके औषधीय गुण –  

  • Dalchini ka ped का बहुत ही गुणकारी और लाभकारी हैं। यह भूख बढ़ाने के लिए भी उपयोग किया जाता हैं। इसके लिए लगभग 500 एमजी दालचीनी 500 mg इलायची और 500 mg, शुंठी के चूर्ण को मिलाकर फिर इसको भोजन के समय के पहले लेना चाहिए।
  •  आंखों का रोग – अगर किसी की आंख फड़कती हैं या फिर किसी की आंखों की रोशनी कम होती जा रही हैं तो दालचीनी के पत्तों से निर्मित तेल का उपयोग आंखों के चारों तरफ करने से आंखों की रोशनी बढ़ती हैं, और आंखों का फड़कना भी बंद हो जाता हैं।
  •  सर्दी – सबसे पहले पानी को गर्म करें फिर उसमें दालचीनी को घिसकर डालें और इसको तब तक गर्म करें जब तक कि इसका लेप तैयार ना हो जाए और फिर इस लेप को नाक पर और सिर पर लगाने से सर्दी जुकाम से राहत मिलती हैं।
  •  वजन घटाने के लिए – जो व्यक्ति अपना वजन कम करना चाहते हैं या फिर मोटापा कम करना चाहते हैं तो वह उसका इस प्रकार से उपयोग करें दालचीनी का चूर्ण तीन चम्मच और उसमें दो चम्मच शहद मिलाकर रोज दिन में तीन बार लें इसे बहुत ही जल्द फर्क दिखाई देगा ।
  • बुखार – बुखार को ठीक करने में भी दालचीनी बहुत ही मददगार होती हैं, इसके लिए सर्वप्रथम 5 ग्राम दालचीनी का चूर्ण और उसमें लगभग एक चम्मच शहद मिलाकर रोज सुबह-शाम सेवन करें इससे बुखार में भी आराम मिलेगा ।

निष्कर्ष 

आज हमने आपको हमारी इस पोस्ट Dalchini ka ped के बारे में बताएं और इसके औषधीय गुणों फायदा उपयोगों के बारे में भी बताया दालचीनी का सेवन अत्यधिक ना करें इसका सेवन चिकित्सक की परामर्श के बाद ही करें अधिक लाभ के चक्कर में अधिक सेवन ना करें यह सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक हो सकता हैं। आशा करते हैं आपको हमारी यह पोस्ट Dalchini ka ped पसंद आई होगी और आपके लिए बहुत ही लाभकारी भी सिद्ध हुई होगी ।

1 thought on “Dalchini ka ped या फिर दालचीनी क्या हैं?”

Leave a Comment